डिजिटल डेमोक्रेसी

ई दस्तक केंद्र संकल्पना

ई दस्तक केंद्र ग्रामीण क्षेत्र में डिजिटल डिवाइड को कम करने की एक कड़ी है। यह एक ऐसी जगह है जहां कोई भी व्यक्ति जिसे इंटरनेट से संबंधित काम की जरूरत है, उसका उपयोग कर सकता है। यह इंटरनेट तकनीक और नॉलेज दोनों का समुदाय के हित में किया गया प्रयास है। यहां ई-प्रारूप में विभिन्न योजनाओं और ज्ञान के भंडार हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि समुदाय में ही होने से एमपी आनलाइन MP Online कियोस्क या लोकसेवा केंद्र तक जाने की जरूरत नहीं है, वह सारे काम ई दस्तक केन्द्र समुदाय में ई वालंटियर की मदद से कर रहा है जिससे समय, श्रम और पैसों की बचत होती है।

वर्ष 2016 से चलाई जा रही इस पहल में मप्र के चार जिले, पन्ना, झाबुआ, खंडवा और भोपाल शामिल हैं। यहां पंचायत स्तर पर ई दस्तक केंद्र (Digital Social Action Lab.) काम कर हैं। इन केन्द्र से उसी समुदाय के ई-वालंटियर्स और कम्युनिटी मोबिलाइज़र जुड़े हुए हैं। ये ऐसी सुविधाएं और महत्वपूर्ण सूचनाएं साझा करते हैं जो सभी के लिए जरूरी है। हर जिले में समन्वय के लिए जिला स्तर पर भी एक ऐसी ही लैब है, जो इस काम को आगे ले जाने में मदद करती है।

उद्देश्य

  • वार्ड/ग्राम पंचायत स्तर पर इंटरनेट से वंचित आबादी को डिजिटल तकनीक को लाया जा सके।
  • प्रत्येक व्यक्ति को इंटरनेट पर उपलब्ध सेवाओं और सूचनाओं, उनके अधिकारों के लिए जागरूक करना।
  • विकास योजनाओं का लाभ उठाने में विकेन्द्रीकृत प्रक्रिया के बारे में प्रत्येक व्यक्ति को परिचित कराना और उसमें भागीदारी करके के लिए प्रेरित करना।
  • समुदाय को सशक्त बनाने के लिए क्षमता निर्माण में सहयोग देना।
  • समुदाय में एक अंतर्दृष्टि और समझ विकसित करना कि वह डिजिटल प्लेटफॉर्म में भाग ले सके और सामाजिक विकास के बड़े हितों की सेवा में योगदान दे सके।
  • शासन में पारदर्शिता के सिद्धांत को आगे बढ़ाने के लिए डिजिटल साधनों का उपयोग करने के लिए समुदाय में क्षमता का निर्माण करना।

अब तक के परिणाम

  • ई वालंटियर्स का ज्ञान और कौशल बढ़ रहा है।
  • सरकारी योजनाओं और सेवाओं तक समुदाय की पहुंच बढ़ रही है।
  • हेल्पलाइन नंबर और उनके उपयोग के बारे में जागरूकता बढ़ी है।
  • शिकायत निवारण प्रणाली के लिए समुदाय की भागीदारी के कारण जमीनी स्तर पर सरकारी अधिकारियों की जवाबदेही में वृद्धि हुई है।
  • प्रेस मीडिया ने सामुदायिक पहल के बाद स्थानीय समाचार पत्र में मुद्दों को उठाया है।

केस अध्ययन